इसरो ने एक बार में 104 उपग्रहों का प्रक्षेपण किया

ISRO Launched 104 satellites all at one goISRO Launched 104 satellites all at one go
Share

15 फरवरी को भारत ने एक बार में 104 उपग्रहों को प्रक्षेपित कर सुनहरे शब्द में अपना नाम लिखा । यह एक बड़ी उपलब्धि है । इसे विश्व अंतरिक्ष इतिहास में पहली बार हासिल किया गया है । यह प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश स्थित श्री हरि कोटा अंतरिक्ष केंद्र  से किया गया था ।

104 उपग्रहों के प्रक्षेपण से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

  • ये उपग्रह ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान से प्रक्षेपित किया गया । पीएसएलवी सबसे पुराना और विश्वसनीय प्रक्षेपण यान है ।
  • सभी उपग्रहों को कक्षा में 16 मिनट 48 सेकंड की उड़ान के बाद सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया गया ।
  • इन 104 उपग्रहों में से 46 भारतीय उपग्रह थे । इन सभी उपग्रह आईआरएस (भारतीय रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट) से लैस हैं ।
  • सभी उपग्रहों का कुल वजन 1378 किलोग्राम है ।
  • इन उपग्रहों का प्रक्षेपण पीएसएलवी के एक्सएल-वेरिएंट द्वारा  किया गया । यह सबसे शक्तिशाली रॉकेट लांचर है जो भारी उपग्रहों को आसानी से  प्रक्षेपित कर सकता है ।
  • विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में परियोजना निदेशक बी जयकुमार के मार्गदर्शन और पर्यवेक्षण के तहत यह पूरी परियोजना सफल रही ।
  • पीएसएलवी सी-32 से 104 उपग्रहों को ले जाया जिनमें से 2 प्राथमिक उपग्रह और दो नैनो सेटेलाइट अर्थात् आईएनएस-1 ए और आईएनएस -1 बी  थे ।
  • नैनो सेटेलाइट के प्रक्षेपण के पीछे का उद्देश्य पृथ्वी का अवलोकन करना है ।
  • 104 उपग्रहों में से, 88 प्लैनेट इंक नामक एक छोटी स्टार्टअप कंपनी के थे । ये इन छोटे उपग्रहों को डोव कहते हैं ।
  • कार्टोसैट – 2 उपग्रह का उद्देश्य विशेष रूप से भारत के पड़ोसी देशों जैसे पाकिस्तान और चीन की गतिविधियों की निगरानी करना है ।
  • इन 104 उपग्रहों में इजरायल, कजाखस्तान, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड और संयुक्त अरब अमीरात  के उपग्रह  शामिल हैं ।

Related posts

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!